loader image

ढीठ चांदनी – धर्मवीर भारती की कविता

आज-कल तमाम रात
चांदनी जगाती है

मुँह पर दे-दे छींटे
अधखुले झरोखे से
अन्दर आ जाती है
दबे पाँव धोखे से

माथा छू
निंदिया उचटाती है
बाहर ले जाती है
घंटो बतियाती है

ठंडी-ठंडी छत पर
लिपट-लिपट जाती है
विह्वल मदमाती है
बावरिया बिना बात?

आजकल तमाम रात
चाँदनी जगाती है

800

Add Comment

By: Dharamveer Bharti

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!