loader image

कब लौटोगे कब लौटोगे

कब लौटोगे कब लौटोगे
हे, जीवन के परम सुहावन -– सावन !
पावन
रस बरसावन तप के गावन
आवन-जावन
कब लौटोगे
रास-रचावन
अन्तर्मन के सुमुख
सखावन
कब !

688

Add Comment

By: Doodhnath Singh

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!