loader image

धर्म – दुष्यंत कुमार की कविता

तेज़ी से एक दर्द
मन में जागा
मैंने पी लिया,
छोटी सी एक ख़ुशी
अधरों में आई
मैंने उसको फैला दिया,
मुझको सन्तोष हुआ
और लगा –-
हर छोटे को
बड़ा करना धर्म है ।

866

Add Comment

By: Dushyant Kumar

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!