loader image

बदन से रूह तलक हम लहू लहू हुए हैं

बदन से रूह तलक हम लहू लहू हुए हैं
तुम्हारे इश्क़ में अब जा के सुर्ख़-रू हुए हैं

हवा के साथ उड़ी है मोहब्बतों की महक
ये तज़्किरे जो मिरी जान कू-ब-कू हुए हैं

वो शब तो कट गई जो प्यास की थी आख़िरी शब
शरीक गिर्या-ए-शबनम में अब सभू हुए हैं

तुम्हारे हुस्न की तश्बीब ही कही है अभी
चराग़ जलने लगे फूल मुश्क-बू हुए हैं

अजीब लुत्फ़ है इस टूटने बिखरने में
हम एक मुश्त-ए-ग़ुबार अब चहार-सू हुए हैं

बजा है ज़िंदगी से हम बहुत रहे नाराज़
मगर बताओ ख़फ़ा तुम से भी कभू हुए हैं

मैं तार-तार ‘ज़फ़र’ हो गया हूँ जिस के सबब
फ़लक के चाक उसी फ़िक्र से रफ़ू हुए हैं

725

Add Comment

By: Zafar Ajmi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!