loader image

शरीर – आलोक धन्वा की कविता

स्त्रियों ने रचा जिसे युगों में
युगों की रातों में उतने नि‍जी हुए शरीर
आज मैं चला ढूँढने अपने शरीर में।

857

Add Comment

By: Alok Dhanwa

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!