loader image

नामचीन औरतें – अनुराधा अनन्या की कविता

कितनी औरतें होंगी
जो जानती होंगी वर्जिनिया वुल्फ़ को
या सुना होगा बोल्ड अमृता शेरगिल के बारे में जिन्होंने
प्रेम में लिखी गई कविता तो हरगिज़ नहीं पढ़ी होगी इन्होंने

यूँ तो मुट्ठीभर ही है साहित्य में तैरती औरतें
पुरुषों के मुक़ाबले
उँगलियों पर ही गिने जा सकते इन औरतों के नाम
मगर इन औरतों की पहुँच से बहुत दूर

सारा शगुफ़्ता से दुःख भी झेला है इन्होंने
प्रेम भी किया ही होगा
अमृता प्रीतम की तरह ही
अलग-अलग पुरुषों से
अलग-अलग उम्र में

हाँ मगर सम्पति में अधिकार की
बात करना
बेहद मुश्किल कल्पना है
मज़दूर औरतों के लिए

ये औरतें
आकर्षक न बन पायीं
मुट्ठीभर नामचीन औरतों की तरह
भाषा मे दर्ज न हो पाया
इनका प्रदर्शन
किन्ही कारणों से

मैं सोचती हूँ
अगर लेतारे, ज़ीरेन, कमला, सायरा, सुमित्रा
अपनी-अपनी जगह से कहें
अपना सोचा हुआ
तो क्या कहेंगी
क्या आकर्षक लगेंगी?
इनकी भाषा में कही गई
इच्छाएँ
स्पोर्ट्स शूज़ पहनने की
शहर देखने की
सेल्फ़ी लेने की

बकरी चोरी होने का ग़ुस्सा
छत टपकने का दुःख
क्या ये बातें भी उतर पाएँगी विमर्श में
साहित्य के पण्डितों के

क्या पसन्द आएँगी
बूढ़ी नानी-दादियों की प्रेम कथाएँ?

नामचीन हुए बिना भी
मामूली वर्जन में…

Add Comment

By: Anuradha Ananya

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!