loader image

फिर तो – अशोक चक्रधर की कविता

आख़िर कब तक इश्क
इकतरफ़ा करते रहोगे,
उसने तुम्हारे दिल को
चोट पहुँचाई
तो क्या करोगे?

-ऐसा हुआ तो
लात मारूँगा
उसके दिल को।

-फिर तो पैर में भी
चोट आएगी तुमको।

814

Add Comment

By: Dr. Ashok Chakradhar

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!