loader image

स्वाभाविक दान – बालस्वरूप राही की कविता

पेड़ किसी से नहीं पूछता
कहो, कहाँ से आए ?
वह तो बस दे देता छाया
चाहे जो सुस्ताए।

खिलते समय न फूल सोचता
कौन उसे पाएगा,
उस की खुशबू अपनी साँसों
में भर इत्तराएगा।

बादल से जब सहा न जाता
अपने जल का संचय
बस वह बरस बरस भर देता
नदियाँ, नहर, जलाशय।

जो स्वभाव से ही दाता हैं
उन्हें न कोई भ्रम है,
भेद-भाव करते हैं वे ही
जिन की पूँजी कम है।

स्वाभाविक दान

Add Comment

By: Balswaroop Raahi

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!