loader image

धीरे-धीरे बीती साँझ

धीरे-धीरे बीती साँझ
धीरे-धीरे डूबा क्षितिज अन्धेरे की लय में
विलय हुआ मैं बैठा वन के बीच
छवि मेरी गुम हुई पत्थरों के
ऊबड़खाबड़पन में, बैठा पत्थर एक
प्रतीक्षा घायल । लहू चन्द्रमा
उठा अचानक बादल का दिल फाड़
हमारे हृदय-देश में हुआ उजाला
गाढ़ा-गाढ़ा मद्धिम-मद्धिम रक्तिम

स्मृति लौटी फिर किसकी
ठगा हुआ मैं
हुआ तिरोहित
पछतावे के अन्धे
तम में ।

786

Add Comment

By: Doodhnath Singh

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!