loader image

घूस माहात्म्य – काका हाथरसी की कविता

कभी घूस खाई नहीं, किया न भ्रष्टाचार
ऐसे भोंदू जीव को बार-बार धिक्कार
बार-बार धिक्कार, व्यर्थ है वह व्यापारी
माल तोलते समय न जिसने डंडी मारी
कहँ ‘काका’, क्या नाम पायेगा ऐसा बंदा
जिसने किसी संस्था का, न पचाया चंदा

478

Add Comment

By: Kaka Hathrasi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!