loader image

वह पठार जो जड़ बीहड़ था

कटते-कटते ध्वस्त हो गया,
धूल हो गया,
सिंचते-सिंचते,
दूब हो गया,
और दूब पर
वन के मन के-
रंग -रूप के, फूल खिल उठे,
वन फूलों से गंध-गंध
संसार हो गया।

वह पठार जो जड़ बीहड़ था

893

Add Comment

By: Kedarnath Agarwal

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!