loader image

समुद्र वह है – केदारनाथ अग्रवाल की कविता

समुद्र वह है
जिसका धैर्य छूट गया है
दिककाल में रहे-रहे!

समुद्र वह है
जिसका मौन टूट गया है,
चोट पर चोट सहे-सहे!

964

Add Comment

By: Kedarnath Agarwal

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!