loader image

नामुराद औरत – असद ज़ैदी की कविता

नामुराद औरत
रोटी जला देती है

बीस साल पहले किसी ने
इसकी लुटिया डुबो दी थी
प्यार में

नामुराद औरत के पास
उस वक़्त
दो जोड़ी कपड़े थे

नामुराद औरत भूल गई थी
दुपट्टा ओढ़ने का सलीक़ा
नामुराद औरत की
फटी थी घुटनों पर से शलवार

इतने बरस बीत गए
बेशरम उतनी ही है
बेशऊर उतनी ही है

अब तो देखो इसकी
एक आँख भी जा रही है!

Add Comment

By: Asad Zaidi

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!