loader image

तुम्हे लगता है – किशोर काबरा की कविता

तुम्हे लगता है
बड़े सवेरे
चिड़िया गीत गाकर
शायद खुश हो रही है
तुम्हे क्या पता
वह इस बहाने
अपना कोई दुखड़ा रो रही है।

तुम्हे लगता है
भरी दोपहरी में
पेड़ के नीचे
छाया
शायद आराम से लेटी है
तुम्हे क्या पता
वह सूरज के डर से वहाँ छिपी बैठी है।

तुम्हे लगता है
आधी रात को पूनम
चांदनी में नहा नहाकर शायद
बाली हो रही है
तुम्हे क्या पता
इसी दुख में अमावस
साँवली हो रही है।

अब तलक हम देखते रहे हैं
दूसरों को अपनी नजर से।
क्यों न हम अब उन्हें देखे
अपनी नजर से।

639
By: Kishor Kabra

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!