loader image

मह लक़ा चंदा के चुनिंदा शेर

गुल के होने की तवक़्क़ो पे जिए बैठी है
हर कली जान को मुट्ठी में लिए बैठी है


गर मिरे दिल को चुराया नहीं तू ने ज़ालिम
खोल दे बंद हथेली को दिखा हाथों को


ब-जुज़ हक़ के नहीं है ग़ैर से हरगिज़ तवक़्क़ो कुछ
मगर दुनिया के लोगों में मुझे है प्यार से मतलब


तीर ओ तलवार से बढ़ कर है तिरी तिरछी निगह
सैकड़ों आशिक़ों का ख़ून किए बैठी है


कभी सय्याद का खटका है कभी ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ
बुलबुल अब जान हथेली पे लिए बैठी है


हम जो शब को ना-गहाँ उस शोख़ के पाले पड़े
दिल तो जाता ही रहा अब जान के लाले पड़े


उन को आँखें दिखा दे टुक साक़ी
चाहते हैं जो बार बार शराब


‘चंदा’ रहे परतव से तिरे या अली रौशन
ख़ुर्शीद को है दर से तिरे शाम-ओ-सहर फ़ैज़


गरचे गुल की सेज हो तिस पर भी उड़ जाती है नींद
सर रखूँ क़दमों पे जब तेरे मुझे आती है नींद


नादाँ से एक उम्र रहा मुझ को रब्त-ए-इश्क़
दाना से अब पड़ा है सरोकार देखना


985

Add Comment

By: Mah Laqa Chanda

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!