loader image

महाराज सर किशन परशाद शाद के चुनिंदा शेर

दिल में जब से देखता है वो तिरी तस्वीर को
नूर बरसाता है अपनी चश्म-ए-तर से आफ़्ताब


बादा-ए-ख़ुम-ए-ख़ाना-ए-तौहीद का मय-नोश हूँ
चूर हूँ मस्ती में ऐसा बे-ख़ुद-ओ-मदहोश हूँ


महाराज सर किशन परशाद शाद के शेर

857

Add Comment

By: Maharaj Sir Kishen Pershad Shad

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!