loader image

चिंता – सुभद्राकुमारी चौहान की कविता

लगे आने, हृदय धन से
कहा मैंने कि मत आओ।
कहीं हो प्रेम में पागल
न पथ में ही मचल जाओ॥

कठिन है मार्ग, मुझको
मंजिलें वे पार करनीं हैं।
उमंगों की तरंगें बढ़ पड़ें
शायद फिसल जाओ॥

तुम्हें कुछ चोट आ जाए
कहीं लाचार लौटूँ मैं।
हठीले प्यार से व्रत-भंग
की घड़ियाँ निकट लाओ॥

चिंता

785

Add Comment

By: Subhadra Kumari Chauhan

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!