loader image

आदि स्मृति – अमृता प्रीतम की कविता

काया की हक़ीक़त से लेकर —
काया की आबरू तक मैं थी,
काया के हुस्न से लेकर —
काया के इश्क़ तक तू था।

यह मैं अक्षर का इल्म था
जिसने मैं को इख़लाक दिया।
यह तू अक्षर का जश्न था
जिसने ‘वह’ को पहचान लिया,
भय-मुक्त मैं की हस्ती
और भय-मुक्त तू की, ‘वह’ की

मनु की स्मृति
तो बहुत बाद की बात है…

593

Add Comment

By: Amrita Pritam

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!