loader image

रिक्शेवाला – अशोक चक्रधर की कविता

आवाज़ देकर
रिक्शेवाले को बुलाया
वो कुछ
लंगड़ाता हुआ आया।

मैंने पूछा-
यार, पहले ये तो बताओगे,
पैर में चोट है कैसे चलाओगे?

रिक्शेवाला कहता है-
बाबू जी,
रिक्शा पैर से नहीं
पेट से चलता है।

1

Add Comment

By: Dr. Ashok Chakradhar

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!