loader image

पुनः चमकेगा दिनकर – अटल बिहारी वाजपेयी की कविता

आज़ादी का दिन मना,
नई ग़ुलामी बीच;
सूखी धरती, सूना अंबर,
मन-आंगन में कीच;
मन-आंगम में कीच,
कमल सारे मुरझाए;
एक-एक कर बुझे दीप,
अंधियारे छाए;
कह क़ैदी कबिराय
न अपना छोटा जी कर;
चीर निशा का वक्ष
पुनः चमकेगा दिनकर।

822

Add Comment

By: Atal Bihari Vajpayee

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!