loader image

जैसा मैंने कहा किया वैसा ही

जैसा मैंने कहा किया वैसा ही
खोले दुख के अंग —
सभी कुछ घायल ।
जीवन निरूपम मिला तुम्हें ओ,
किसने उसकी छाल उतारी
किया निर्वसन । छील-छाल कर
श्वेत रंग से दुहा ज़हर
ओ, दुहिता माता खड़ी भगवती
सब सिंगार सिधारे, धरती का
अवलम्ब लिए, कैसी हो
किसकी हो तुम नारी !
जिसकी चर्चा का विष-नगर
बिछाए, सारे मनु सारे कनु
चीख़ रहे हैं कामाख्या की
व्यथा–कथाएँ ।

959

Add Comment

By: Doodhnath Singh

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!