loader image

हबीब तनवीर के चुनिंदा शेर

ख़ार को तो ज़बान-ए-गुल बख़्शी
गुल को लेकिन ज़बान-ए-ख़ार ही दी


मैं नहीं जा पाऊँगा यारो सू-ए-गुलज़ार अभी
देखनी है आब-जू-ए-ज़ीस्त की रफ़्तार अभी


हबीब तनवीर के शेर

954

Add Comment

By: Habib Tanvir

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!