loader image

इश्क़ की मार बड़ी दर्दीली, इश्क़ में जी न फँसाना जी

इश्क़ की मार बड़ी दर्दीली, इश्क़ में जी न फँसाना जी
सब कुछ करना इश्क़ न करना, इश्क़ से जान बचाना जी

वक़्त न देखे, उम्र न देखे, जब चाहे मजबूर करे
मौत और इश्क़ के आगे लोगो, कोई चले न बहाना जी

इश्क़ की ठोकर, मौत की हिचकी, दोनों का है एक असर
एक करे घर घर रुसवाई, एक करे अफ़साना जी

इश्क़ की नेमत फिर भी यारो, हर नेमत पर भारी है
इश्क़ की टीसें देन ख़ुदा की, इश्क़ से क्या घबराना जी

इश्क़ की नज़रों में सब यकसां, काबा क्या बुतख़ाना क्या
इश्क़ में दुनिया उक्बां क्या है, क्या अपना बेगाना जी

राह कठिन है पी के नगर की, आग पे चल कर जाना है
इश्क़ है सीढ़ी पी के मिलन की, जो चाहे तो निभाना जी

‘तर्ज़’ बहुत दिन झेल चुके तुम, दुनिया की ज़ंजीरों को
तोड़ के पिंजरा अब तो तुम्हें है देस पिया के जाना जी

Add Comment

By: Ganesh Bihari Tarz

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!