loader image

इब्ने इंशा के चुनिंदा शेर

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तिरा
कुछ ने कहा ये चाँद है कुछ ने कहा चेहरा तिरा


इक साल गया इक साल नया है आने को
पर वक़्त का अब भी होश नहीं दीवाने को


कब लौटा है बहता पानी बिछड़ा साजन रूठा दोस्त
हम ने उस को अपना जाना जब तक हाथ में दामाँ था


रात आ कर गुज़र भी जाती है
इक हमारी सहर नहीं होती


अपनी ज़बाँ से कुछ न कहेंगे चुप ही रहेंगे आशिक़ लोग
तुम से तो इतना हो सकता है पूछो हाल बेचारों का


वो रातें चाँद के साथ गईं वो बातें चाँद के साथ गईं
अब सुख के सपने क्या देखें जब दुख का सूरज सर पर हो


‘इंशा’-जी उठो अब कूच करो इस शहर में जी को लगाना क्या
वहशी को सुकूँ से क्या मतलब जोगी का नगर में ठिकाना क्या


हम भूल सके हैं न तुझे भूल सकेंगे
तू याद रहेगा हमें हाँ याद रहेगा


हुस्न सब को ख़ुदा नहीं देता
हर किसी की नज़र नहीं होती


दिल हिज्र के दर्द से बोझल है अब आन मिलो तो बेहतर हो
इस बात से हम को क्या मतलब ये कैसे हो ये क्यूँकर हो


748

Add Comment

By: Ibne Insha

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!