loader image

फ़हमीदा रियाज़ के चुनिंदा शेर

किस से अब आरज़ू-ए-वस्ल करें
इस ख़राबे में कोई मर्द कहाँ


फ़हमीदा रियाज़ के शेर

639

Add Comment

By: Fahmida Riaz

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!