loader image

अहसान अली ख़ाँ के चुनिंदा शेर

अश्कों के निशाँ पर्चा-ए-सादा पे हैं क़ासिद
अब कुछ न बयाँ कर ये इबारत ही बहुत है


अहसान अली ख़ाँ के शेर

639

Add Comment

By: Ehsan Ali Khan

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!