loader image

लंदन में बिक आया नेता

लंदन में बिक आया नेता, हाथ कटा कर आया।
एटली-बेविन-अंग्रेज़ों में, खोया और बिलाया।।

भारत-माँ का पूत-सिपाही, पर घर में भरमाया।
अंग्रेज़ी साम्राज्यवाद का, उसने डिनर उड़ाया।।

अर्थनीति में राजनीति में, गहरा गोता खाया।
जनवादी भारत का उसने, सब-कुछ वहाँ गवायाँ।।

869

Add Comment

By: Kedarnath Agarwal

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!