loader image

पात नए आ गए

टहनी के टूसे पतरा गए!
पकड़ी को पात नए आ गए!

नया रंग देशों से फूटा
वन भींज गया,
दुहरी यह कूक, पवन झूठा —
मन भींज गया,

डाली-डाली स्वर छितरा गए!
पात नए आ गए!

कोर डिठियों की कड़ुवाई

टहनी के टूसे पतरा गए!
पकड़ी को पात नए आ गए!

नया रंग देशों से फूटा
वन भींज गया,
दुहरी यह कूक, पवन झूठा —
मन भींज गया,

डाली-डाली स्वर छितरा गए!
पात नए आ गए!

कोर डिठियों की कड़ुवाई
रंग छूट गया,
बाट जोहते आँखें आईं
दिन टूट गया,

राहों के राही पथरा गए,
पात नए आ गए!

596

Add Comment

By: Kedarnath Singh

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!