loader image

अच्छा लगा – कुंवर नारायण की कविता

पार्क में बैठा रहा कुछ देर तक
अच्छा लगा,
पेड़ की छाया का सुख
अच्छा लगा,
डाल से पत्ता गिरा- पत्ते का मन,
“अब चलूँ” सोचा,
तो यह अच्छा लगा…

968

Add Comment

By: Kunwar Narayan

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!