loader image

लईक़ अकबर सहाब के चुनिंदा शेर

आईना दिल का तोड़ के कहता है संग-ज़न
दिल तेरा तोड़ कर मुझे अच्छा नहीं लगा


ज़ख़्म कारी बहुत लगा दिल पर
तीर अपनों ने इक चलाया था


लईक़ अकबर सहाब के शेर


953

Add Comment

By: Laiq Akbar Sahaab

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!