loader image

साइल देहलवी के चुनिंदा शेर

आह करता हूँ तो आते हैं पसीने उन को
नाला करता हूँ तो रातों को वो डर जाते हैं


झड़ी ऐसी लगा दी है मिरे अश्कों की बारिश ने
दबा रक्खा है भादों को भुला रक्खा है सावन को


हमेशा ख़ून-ए-दिल रोया हूँ मैं लेकिन सलीक़े से
न क़तरा आस्तीं पर है न धब्बा जैब ओ दामन पर


मोहतसिब तस्बीह के दानों पे ये गिनता रहा
किन ने पी किन ने न पी किन किन के आगे जाम था


मालूम नहीं किस से कहानी मिरी सुन ली
भाता ही नहीं अब उन्हें अफ़्साना किसी का


ख़त-ए-शौक़ को पढ़ के क़ासिद से बोले
ये है कौन दीवाना ख़त लिखने वाला


ये मस्जिद है ये मय-ख़ाना तअ’ज्जुब इस पर आता है
जनाब-ए-शैख़ का नक़्श-ए-क़दम यूँ भी है और यूँ भी


शबाब कर दिया मेरा तबाह उल्फ़त ने
ख़िज़ाँ के हाथ की बोई हुई बहार हूँ मैं


हैं ए’तिबार से कितने गिरे हुए देखा
इसी ज़माने में क़िस्से इसी ज़माने के


जनाब-ए-शैख़ मय-ख़ाने में बैठे हैं बरहना-सर
अब उन से कौन पूछे आप ने पगड़ी कहाँ रख दी


587

Add Comment

By: Saail Dehlvi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!