loader image

पंडित जवाहर नाथ साक़ी के चुनिंदा शेर

फ़लक पे चाँद सितारे निकलने हैं हर शब
सितम यही है निकलता नहीं हमारा चाँद


क़ालिब को अपने छोड़ के मक़्लूब हो गए
क्या और कोई क़ल्ब है इस इंक़लाब में


नहीं खुलता सबब तबस्सुम का
आज क्या कोई बोसा देंगे आप


जान-ओ-दिल था नज़्र तेरी कर चुका
तेरे आशिक़ की यही औक़ात है


जज़्बा-ए-इश्क़ चाहिए सूफ़ी
जो है अफ़्सुर्दा अहल-ए-हाल नहीं


हम को भरम ने बहर-ए-तवहहुम बना दिया
दरिया समझ के कूद पड़े हम सराब में


वो माह जल्वा दिखा कर हमें हुआ रू-पोश
ये आरज़ू है कि निकले कहीं दोबारा चाँद


ये रिसाला इश्क़ का है अदक़ तिरे ग़ौर करने का है सबक़
कभी देख इस को वरक़ वरक़ मिरा सीना ग़म की किताब है


दिल भी अब पहलू-तही करने लगा
हो गया तुम सा तुम्हारी याद में


सिक्का अपना नहीं जमता है तुम्हारे दिल पर
नक़्श अग़्यार के किस तौर से जम जाते हैं


958

Add Comment

By: Pandit Jawahar Nath Saqi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!