loader image

जो न वहम-ओ-गुमान में आवे

जो न वहम-ओ-गुमान में आवे
किस तरह तेरे ध्यान में आवे

तुझ से हमदम रखूँ न पोशीदा
हाल-ए-दिल गर बयान में आवे

मेरी ये आरज़ू है वक़्त-ए-मर्ग
उस की आवाज़ कान में आवे

मैं न दूँगा जवाब तू कह ले
जो कि तेरी ज़बान में आवे

ये शब-ए-वस्ल ख़ैर से गुज़रे
तो मिरी जान जान में आवे

हाए क्या हो अभी जो ऐ हमदम
वो सनम इस मकान में आवे

गर खुले चश्म-ए-दिल तो तुझ को नज़र
वो ही सारे जहान में आवे

उस की तारीफ़ क्या करूँ ‘ग़मगीं’
हल-अता जिस की शान में आवे

1

Add Comment

By: Ghamgeen Dehlvi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!