loader image

जावेद अख़्तर के चुनिंदा शेर

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी


जिधर जाते हैं सब जाना उधर अच्छा नहीं लगता
मुझे पामाल रस्तों का सफ़र अच्छा नहीं लगता


डर हम को भी लगता है रस्ते के सन्नाटे से
लेकिन एक सफ़र पर ऐ दिल अब जाना तो होगा


इसी जगह इसी दिन तो हुआ था ये एलान
अँधेरे हार गए ज़िंदाबाद हिन्दोस्तान


मुझे दुश्मन से भी ख़ुद्दारी की उम्मीद रहती है
किसी का भी हो सर क़दमों में सर अच्छा नहीं लगता


ज़रा मौसम तो बदला है मगर पेड़ों की शाख़ों पर नए पत्तों के आने में अभी कुछ दिन लगेंगे
बहुत से ज़र्द चेहरों पर ग़ुबार-ए-ग़म है कम बे-शक पर उन को मुस्कुराने में अभी कुछ दिन लगेंगे


इन चराग़ों में तेल ही कम था
क्यूँ गिला फिर हमें हवा से रहे


ऊँची इमारतों से मकाँ मेरा घिर गया
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए


हम तो बचपन में भी अकेले थे
सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे


ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना
बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता


943

Add Comment

By: Javed Akhtar

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!