loader image

जिस समय में – कुंवर नारायण की कविता

जिस समय में
सब कुछ
इतनी तेजी से बदल रहा है

वही समय
मेरी प्रतीक्षा में
न जाने कब से
ठहरा हुआ है !

उसकी इस विनम्रता से
काल के प्रति मेरा सम्मान-भाव
कुछ अधिक
गहरा हुआ है।

936

Add Comment

By: Kunwar Narayan

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!