loader image

इज़्हार – अहमद फ़राज़ की नज़्म

पत्थर की तरह अगर मैं चुप रहूँ
तो ये न समझ कि मेरी हस्ती
बेग़ान-ए-शोल-ए-वफ़ा है
तहक़ीर से यूँ न देख मुझको
ऐ संगतराश!
तेरा तेशा
मुम्किन है कि ज़र्बे-अव्वली से
पहचान सके कि मेरे दिल में
जो आग तेरे लिए दबी है
वो आग ही मेरी ज़िंदगी है

इज़्हार

656

Add Comment

By: Ahmad Faraz

© 2021 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!