loader image

दानिश अलीगढ़ी के चुनिंदा शेर

मुस्कुरा कर उन का मिलना और बिछड़ना रूठ कर
बस यही दो लफ़्ज़ इक दिन दास्ताँ हो जाएँगे


आख़िरी वक़्त तलक साथ अंधेरों ने दिया
रास आते नहीं दुनिया के उजाले मुझ को


हो के मजबूर ये बच्चों को सबक़ देना है
अब क़लम छोड़ के तलवार उठा ली जाए


तेरे फ़िराक़ ने की ज़िंदगी अता मुझ को
तेरा विसाल जो मिलता तो मर गया होता


ज़र्रे ज़र्रे में महक प्यार की डाली जाए
बू तअस्सुब की हर इक दिल से निकाली जाए


गर तरन्नुम पर ही ‘दानिश’ मुनहसिर है शाइरी
फिर तो दुनिया भर के शाइर नग़्मा-ख़्वाँ हो जाएँगे


अपने दुश्मन को भी ख़ुद बढ़ के लगा लो सीने
बात बिगड़ी हुई इस तरह बना ली जाए


रूदाद-ए-शब-ए-ग़म यूँ डरता हूँ सुनाने से
महफ़िल में कहीं उन की सूरत न उतर जाए


958

Add Comment

By: Danish Aligarhi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!