loader image

मेरी स्त्री – रघुवीर सहाय की कविता

प्यारे दर्शको, यह जो स्त्री आप देखते हैं सो मेरी स्त्री है
इसकी मुझसे प्रीति है । पर यह भी मेरे लिए एक विडम्बना है
क्योंकि मुझे इसकी प्रीति इतनी प्यारी नहीं
जितनी यह मानती है कि है । यह सुंदर है मनोहारी नहीं,
मधुर है, पर मतवाली नहीं, फुर्तीली है, पर चपला नहीं
और बुद्धिमती है पर चंचला नहीं । देखो यही मेरी स्त्री है
और इसी के संग मेरा इतना जीवन बीता है । और
इसी के कारण अभी तक मैं सुखी था ।
सच पूछिए तो कोई बहुत सुखी नहीं था । पर दुखिया
राजा ने देखा कि मैं सुखी हूँ सो उसने मन में ठानी
कि मेरे सुख का कारण न रहे तो मैं सुखी न रहूँ ।
उसका आदेश है कि मैं इसकी हत्या कर इसको मिटा
डालूँ । यह निर्दोष है अनजान भी । यह
नहीं जानती कि इसका जीवन अब और अधिक
नहीं । देखो, कितने उत्साह से यह मेरी ओर आती है ।

1

Add Comment

By: Raghuvir Sahay

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!