loader image

सबा अकबराबादी के चुनिंदा शेर

अपने जलने में किसी को नहीं करते हैं शरीक
रात हो जाए तो हम शम्अ बुझा देते हैं


इक रोज़ छीन लेगी हमीं से ज़मीं हमें
छीनेंगे क्या ज़मीं के ख़ज़ाने ज़मीं से हम


समझेगा आदमी को वहाँ कौन आदमी
बंदा जहाँ ख़ुदा को ख़ुदा मानता नहीं


भीड़ तन्हाइयों का मेला है
आदमी आदमी अकेला है


आप के लब पे और वफ़ा की क़सम
क्या क़सम खाई है ख़ुदा की क़सम


सौ बार जिस को देख के हैरान हो चुके
जी चाहता है फिर उसे इक बार देखना


ग़लत-फ़हमियों में जवानी गुज़ारी
कभी वो न समझे कभी हम न समझे


आप आए हैं सो अब घर में उजाला है बहुत
कहिए जलती रहे या शम्अ बुझा दी जाए


कब तक नजात पाएँगे वहम ओ यक़ीं से हम
उलझे हुए हैं आज भी दुनिया ओ दीं से हम


अच्छा हुआ कि सब दर-ओ-दीवार गिर पड़े
अब रौशनी तो है मिरे घर में हवा तो है


958

Add Comment

By: Saba Akhbarabadi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!