loader image

यगाना चंगेज़ी के चुनिंदा शेर

गुनाह गिन के मैं क्यूँ अपने दिल को छोटा करूँ
सुना है तेरे करम का कोई हिसाब नहीं


मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जाएगा
मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता


सब्र करना सख़्त मुश्किल है तड़पना सहल है
अपने बस का काम कर लेता हूँ आसाँ देख कर


दर्द हो तो दवा भी मुमकिन है
वहम की क्या दवा करे कोई


कशिश-ए-लखनऊ अरे तौबा
फिर वही हम वही अमीनाबाद


इल्म क्या इल्म की हक़ीक़त क्या
जैसी जिस के गुमान में आई


किसी के हो रहो अच्छी नहीं ये आज़ादी
किसी की ज़ुल्फ़ से लाज़िम है सिलसिला दिल का


सब तिरे सिवा काफ़िर आख़िर इस का मतलब क्या
सर फिरा दे इंसाँ का ऐसा ख़ब्त-ए-मज़हब क्या


मौत माँगी थी ख़ुदाई तो नहीं माँगी थी
ले दुआ कर चुके अब तर्क-ए-दुआ करते हैं


ख़ुदी का नश्शा चढ़ा आप में रहा न गया
ख़ुदा बने थे ‘यगाना’ मगर बना न गया


987

Add Comment

By: Yagana Changezi

© 2022 पोथी | सर्वाधिकार सुरक्षित

Do not copy, Please support by sharing!